वक्री गुरु मकर में करेंगे प्रवेश, इन राशियों के लिए शुभ संकेत

गुरु बृहस्पति ग्रहों में सबसे बड़े होने के साथ सबसे अधिक फलदायी भी हैं. । ये 14 सितंबर को शनि देव की राशि, मकर में गोचर करेंगे, जहां ये 20 नवंबर 2021 तक रहेंगे फिर कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे । गुरु ग्रह इस समय कुंभ राशि में वक्री चाल से चल रहे हैं तथा मकर राशि में परिवर्तन पर शनि देव के साथ युति बनायेगे । 

ज्योतिष शास्त्र में गुरु ग्रह को एक शुभ और ज्ञानी ग्रह के रूप में माना जाता है । गुरु कर्क राशि में उच्च के और मकर राशि में नीच के माने जाते हैं और यही नहीं भाग्य विवाह और प्रसिद्धि के भी कारक है ।14 सितंबर को गुरु मकर राशि में नीच के होंगे परंतु स्वराशि शनि के साथ युति बनाने पर गुरु का नीच भंग हो रहा है । इस कारण से यह अत्यन्त महत्व पूर्ण हो जाता है तथा सभी 12 राशियों पर अच्छा और बुरा दोनो तरह का प्रभाव देखने को मिल सकता है । 

Get your ‘Free Astrology Course

जानिए आपकी राशि पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा -

1) मेष राशि _____ इस राशि के जातकों के लिए गुरु का गोचर दसवें भाव में हो रहा है ।

  • यह गोचर प्रसिद्धि लाएगा तथा व्यापारी वर्ग के लिए किसी सपने से कम नही है ।
  • नौकरीपेशा लोगो के लिए वेतन बढ़ोतरी तथा पदोन्नति के शुभ संकेत हैं
  • बीमारियों से बचकर बचकर रहे ।

2) वृषभ राशि ___ वृषभ राशि के जातकों के लिए गुरु का गोचर नवें  भाव में हो रहा है ।

  • भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा और रुके हुए काम पूरे होंगे ।
  • नोकरी के अवसर प्राप्त होंगे जिसका इंतजार आपको कई महीनों से था ।
  • आपके लिए यह गोचर आर्थिक नजरिए से लाभदायक रहेगा तथा आय के नए स्त्रोत प्राप्त होंगे ।

3) मिथुन राशि ____ मिथुन राशि वाले जातकों के लिए गुरु का गोचर आठवें भाव में हो रहा है ।

  • व्यवसाय से जुड़े लोगों को हो सकता है लाभ।
  • नौकरीपेशा जातकों को कठिनाई हो सकती है ।
  • अचानक और गैर जरूरी यात्रा से बचें ।

4) कर्क राशि ____ इस राशि वाले जातकों के लिए गुरु का गोचर सातवे भाव में होने जा रहा है ।

  • नोकरी में बेहतर अवसर और वेतन बढ़ोतरी की संभावना ।
  • कारोबारियों के लिए बेहद शुभ तथा लाभकारी, व्यापारिक साझेदारी में चल रहे विवाद होंगे खत्म होंगे
  • नया बिजनस करने वालो के लिए यह अच्छा समय है ।
  • निवेश कार्यों में विवेक के साथ निर्णय ले ।

5) सिंह राशि ____ आपके लिए गुरु का गोचर शत्रु भाव यानि छठें भाव में होने जा रहा है

  • नोकरी करने वाले जातकों को मिले जुले परिणाम प्राप्त होंगे ।
  • कार्य क्षेत्र में तनाव और केरियर के क्षेत्र में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है ।
  • वाद विवाद से दूर रहना होगा तथा जीवन साथी से टकराव हो सकते है ।
  • अपनी सेहत का ध्यान रखें ।

6) कन्या राशि _____ कन्या राशि वालो के लिए गुरु का गोचर पांचवे भाव में होने जा रहा है ।

  • कार्य क्षेत्र में इम्प्रेस होंगे बॉस, मिलेगी सराहना । 
  • बिजनस में मुनाफे के योग हैं ।
  • निवेश के लिए यह समय अच्छा रहेगा ।

7) तुला राशि ____ गुरु का गोचर आपके लिए चौथे भाव में होने जा रहा है ।

  • केरियर में आपको बेहतर अवसर प्राप्त होंगे ।
  • कारोबारियों को कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है ।
  • कुछ स्वास्थ संबंधी समस्याएं आपको कर सकती है चिंतित ।
  • पैतृक संपति से बड़ा फायदा मिल सकता है ।

8) वृश्चिक राशि ____आपके लिए गुरु का गोचर तिसरे भाव में हो रहा है ।

  • कार्य क्षेत्र में बढ़ेंगी जिम्मेदारियां ।
  • नोकरी के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है ।
  • आकस्मिक खर्चे करने पड़ सकते हैं जिससे आपकी आर्थिक स्थिति पर असर पड़ सकता है ।

9) धनु राशि _____गुरु का गोचर आपके दूसरे भाव में होने जा रहा है ।

  • धन लाभ मिलने के पूरे आसार, बढ़ेगा बैंक बैलेंस ।
  • पारिवारिक जीवन में कठिनाई आ सकती है ।
  • व्यवसाय में हो सकते हैं बड़े फ़ायदें ।

10) मकर राशि ____ गुरु का गोचर आपके पहले भाव में हो रहा हैं।

  • भौतिक सुखों में कमी आने के संकेत।
  • किसी भी काम में अति आत्मविश्वास से बचे ।
  • निवेश करने के लिए अच्छा समय ।

11) कुंभ राशि_____ आपकी राशि में गुरु का गोचर बारहवें  भाव में होने जा रहा है ।

  • खर्चे बड़ने की संभावना है ।
  • व्यवसाय में फल की संभावना कम रहेगी ।

12) मीन राशि_____आपकी राशि में गुरु का गोचर एकादश भाव में होने जा रहा है ।

  • अचानक हो सकता है धन लाभ ।
  • यह समय आपके लिए श्रेष्ठ फलदाई रहेगा ।
  • बड़े से बड़ा कार्य आरंभ करना हो अथवा किसी नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना हो तो निर्णय लेने में विलंब न करें 
  • शादी विवाह से संबधित वार्ता सफल होगी ।

—ज्योतिष ममता अरोरा

Recommended Posts