KETU IN 12TH HOUSE – THE HOUSE OF FOREIGN / SPIRITUAL TRAVELLERS

I was only wondering how people with this placement cope because it is not easy dealing with this placement. Ketu in 12th house can make one seek retreat in isolation, people with this placement have a lot to give to the world, the only way for them to regain their strength is through separation or isolation from others, this way they can control their powers and find answers to the deeper or hidden things of this world.

 ‘Learn Vedic Astrology’ Course Online

They are spiritual travelers who have traveled from far to join us on earth, so they are not like most of us. These are people who can travel or journey while asleep to another world, these people show interest in things above like they always looking at the sky as if they have friends there, these are people who love to associate themselves to things in which an ordinary human will shy away from or ignore, things like death activities, ghost, mortuary or visiting places of such. They can foresee things about to come and they can also connect with their past life through dreams or some psychic feelings.

They possess deep intuition which is capable of seeing what others cannot see, due to their high energy of Ketu in 12th house they mostly suffer from mood swings in which only through isolation can they recover. People with this placement tend to feel with every part of their body, it is as if their body is open to lots of energies, at worst this placement can produce a ruthless person using his great spiritual powers for evil, people with this placement are either born in a foreign land which may be different from their mother or father’s homeland or they may visit and relocate to a foreign place early or late in life and die in a foreign land.

At worst this placement can also give several troubles in jail, imprisonment and court case situations.

There are lots of things about Ketu in 12th but these are some of the things that is common with people having this placement.

Astrolok is one of the famous astrology institutes based in Indore where you can learn Vedic astrology, marriage astrology, Nadi astrology, horoscope matching through live Vedic astrology classes.

Learn Vedic Astrology’ with Asttrolok.

वक्री गुरु मकर में करेंगे प्रवेश, इन राशियों के लिए शुभ संकेत

गुरु बृहस्पति ग्रहों में सबसे बड़े होने के साथ सबसे अधिक फलदायी भी हैं. । ये 14 सितंबर को शनि देव की राशि, मकर में गोचर करेंगे, जहां ये 20 नवंबर 2021 तक रहेंगे फिर कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे । गुरु ग्रह इस समय कुंभ राशि में वक्री चाल से चल रहे हैं तथा मकर राशि में परिवर्तन पर शनि देव के साथ युति बनायेगे । 

ज्योतिष शास्त्र में गुरु ग्रह को एक शुभ और ज्ञानी ग्रह के रूप में माना जाता है । गुरु कर्क राशि में उच्च के और मकर राशि में नीच के माने जाते हैं और यही नहीं भाग्य विवाह और प्रसिद्धि के भी कारक है ।14 सितंबर को गुरु मकर राशि में नीच के होंगे परंतु स्वराशि शनि के साथ युति बनाने पर गुरु का नीच भंग हो रहा है । इस कारण से यह अत्यन्त महत्व पूर्ण हो जाता है तथा सभी 12 राशियों पर अच्छा और बुरा दोनो तरह का प्रभाव देखने को मिल सकता है । 

Get your ‘Free Astrology Course

जानिए आपकी राशि पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा -

1) मेष राशि _____ इस राशि के जातकों के लिए गुरु का गोचर दसवें भाव में हो रहा है ।

  • यह गोचर प्रसिद्धि लाएगा तथा व्यापारी वर्ग के लिए किसी सपने से कम नही है ।
  • नौकरीपेशा लोगो के लिए वेतन बढ़ोतरी तथा पदोन्नति के शुभ संकेत हैं
  • बीमारियों से बचकर बचकर रहे ।

2) वृषभ राशि ___ वृषभ राशि के जातकों के लिए गुरु का गोचर नवें  भाव में हो रहा है ।

  • भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा और रुके हुए काम पूरे होंगे ।
  • नोकरी के अवसर प्राप्त होंगे जिसका इंतजार आपको कई महीनों से था ।
  • आपके लिए यह गोचर आर्थिक नजरिए से लाभदायक रहेगा तथा आय के नए स्त्रोत प्राप्त होंगे ।

3) मिथुन राशि ____ मिथुन राशि वाले जातकों के लिए गुरु का गोचर आठवें भाव में हो रहा है ।

  • व्यवसाय से जुड़े लोगों को हो सकता है लाभ।
  • नौकरीपेशा जातकों को कठिनाई हो सकती है ।
  • अचानक और गैर जरूरी यात्रा से बचें ।

4) कर्क राशि ____ इस राशि वाले जातकों के लिए गुरु का गोचर सातवे भाव में होने जा रहा है ।

  • नोकरी में बेहतर अवसर और वेतन बढ़ोतरी की संभावना ।
  • कारोबारियों के लिए बेहद शुभ तथा लाभकारी, व्यापारिक साझेदारी में चल रहे विवाद होंगे खत्म होंगे
  • नया बिजनस करने वालो के लिए यह अच्छा समय है ।
  • निवेश कार्यों में विवेक के साथ निर्णय ले ।

5) सिंह राशि ____ आपके लिए गुरु का गोचर शत्रु भाव यानि छठें भाव में होने जा रहा है

  • नोकरी करने वाले जातकों को मिले जुले परिणाम प्राप्त होंगे ।
  • कार्य क्षेत्र में तनाव और केरियर के क्षेत्र में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है ।
  • वाद विवाद से दूर रहना होगा तथा जीवन साथी से टकराव हो सकते है ।
  • अपनी सेहत का ध्यान रखें ।

6) कन्या राशि _____ कन्या राशि वालो के लिए गुरु का गोचर पांचवे भाव में होने जा रहा है ।

  • कार्य क्षेत्र में इम्प्रेस होंगे बॉस, मिलेगी सराहना । 
  • बिजनस में मुनाफे के योग हैं ।
  • निवेश के लिए यह समय अच्छा रहेगा ।

7) तुला राशि ____ गुरु का गोचर आपके लिए चौथे भाव में होने जा रहा है ।

  • केरियर में आपको बेहतर अवसर प्राप्त होंगे ।
  • कारोबारियों को कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है ।
  • कुछ स्वास्थ संबंधी समस्याएं आपको कर सकती है चिंतित ।
  • पैतृक संपति से बड़ा फायदा मिल सकता है ।

8) वृश्चिक राशि ____आपके लिए गुरु का गोचर तिसरे भाव में हो रहा है ।

  • कार्य क्षेत्र में बढ़ेंगी जिम्मेदारियां ।
  • नोकरी के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है ।
  • आकस्मिक खर्चे करने पड़ सकते हैं जिससे आपकी आर्थिक स्थिति पर असर पड़ सकता है ।

9) धनु राशि _____गुरु का गोचर आपके दूसरे भाव में होने जा रहा है ।

  • धन लाभ मिलने के पूरे आसार, बढ़ेगा बैंक बैलेंस ।
  • पारिवारिक जीवन में कठिनाई आ सकती है ।
  • व्यवसाय में हो सकते हैं बड़े फ़ायदें ।

10) मकर राशि ____ गुरु का गोचर आपके पहले भाव में हो रहा हैं।

  • भौतिक सुखों में कमी आने के संकेत।
  • किसी भी काम में अति आत्मविश्वास से बचे ।
  • निवेश करने के लिए अच्छा समय ।

11) कुंभ राशि_____ आपकी राशि में गुरु का गोचर बारहवें  भाव में होने जा रहा है ।

  • खर्चे बड़ने की संभावना है ।
  • व्यवसाय में फल की संभावना कम रहेगी ।

12) मीन राशि_____आपकी राशि में गुरु का गोचर एकादश भाव में होने जा रहा है ।

  • अचानक हो सकता है धन लाभ ।
  • यह समय आपके लिए श्रेष्ठ फलदाई रहेगा ।
  • बड़े से बड़ा कार्य आरंभ करना हो अथवा किसी नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना हो तो निर्णय लेने में विलंब न करें 
  • शादी विवाह से संबधित वार्ता सफल होगी ।

—ज्योतिष ममता अरोरा

CHARACTERISTICS OF LIBRA ASCENDANT

The airy zodiac sign is movable and with a symbol of weighing scale representing Balance, Harmony and Lower Abdomen.

Sympathetic, cooperative, sociable, good in public relations, of sound judgment, diplomatic, intuitive, inspirational, constructive, creative, dynamic, good organizing, good power of concentration, intellectual, adaptable, courteous, charming, of pleasant nature, affectionate, popular amongst friends, loving comfort and conveniences, fond of beauty, art, music, artistically inclined, refined, fond of dresses and jewelry, likely to be of medical profession. These are all the traits of Libra ascendant.

APPEARANCE

With the effect of lord of lagna being venus, native will be fair complexioned with large beautiful eyes, tall in height, attractive, youthful appearance, sweet smile, parrot like nose and round oval face. Overall, of good features.

PROFESSION FOR LIBRA ASCENDANT

With much to do with government servants and officers, libra ascendants will lead mostly a public life with financial and social success. They do not hurt others and are popular.  Natives are mostly musicians, salesmen, architects, teachers, lawyers and doctors. And ofcourse government servants and government officers.

Begin your astrological journey, learn astrology online for free.

TRAITS TO BE CORRECTED

There is a gain for the libra ascendant due to the goodwill of affectionate and influential people or associates. Therefore, keeping a check on their emotions is must for them lest they go out of bounds and allow things to go out of hand. Too much familiarity is not good. At the same time, being of liberal nature, they should get fooled and form a habit of forgiving but not forgetting.

NAKSHATRA IN LIBRA ASCENDANT

  • Chitra:  Owned by Mars
  • Swati : Owned by Rahu
  • Vishaka  : Owned by Jupiter

PLANETS OF LIBRA ASCENDANTS

  •   Ascendant of Libra is ruled by Venus and next sign is scorpio ruled by mars. Previous sign is ruled by mercury (virgo) so libra sign is sandwiched between mercury and mars . Fourth house Lord Capricorn (10th aspect ) is on lagna and seventh house lord mars seventh aspect is on lagna. There are obstacles and problems in childhood as far as health is concerned, and again later on.
  • Second house is ruled by mars sandwiched between Venus lagna lord and the third house lord Jupiter of Sagittarius sign. They speak sweetly because Venus is on one side and Jupiter on the other side.
  • Third house ruled by Jupiter and mars second house lord on one side and fourth house lord Saturn is another side. Third house is between two malefic plants – mars and Saturn.  Lesser courage is the result.
  • Fourth house ruled by Capricorn (Saturn) and the previous sign Sagittarius (Jupiter) and the next sign is Aquarius ruled by Saturn. Seventh aspect of the moon on the fourth house.Generally good mothers but some issues between son and mother.
  • Fifth house is ruled by Aquarius sign (Shani) and previous fourth house lord is also Shani.  Sixth house lord is Jupiter. Sun, eleventh lord aspect, is on fifth house (Aquarius). They have good talented children but not so great luck. They want power and authority.
  • Sixth house is ruled by Jupiter (Pisces sign) and previous house lord is Shani (Aquarius), and mars (Aries sign) lord of the seventh house (next house). Jupiter is not considered  good planet in thulalagna, and being lord of sixth house, debts and enemies may be an issue.
  • Seventh house lord is mars (Aries sign)and previous house lord (sixth house) is Jupiter (Pisces sign) with eighth house lord being Venus (Taurus sign). There could be issues in marriage due to haste.
  • Eighth house lord is Venus (Taurus sign) and previous seventh house lord is mars and the next ninth house lord is mercury (Gemini sign). Aspect of mars (Scorpio sign ) from the second house is on the eighth  house – the house of longevity.  The house (eighth) is therefore protected. The house has lots of malefic energy in it and kalpurushkundli eighth house is ruled by Scorpio sign.
  •  Mercury (Gemini sign) rules the ninth house. Previous house (eighth) lord is Venus (Taurus sign). The next tenth house lord is moon (cancer sign). Natives come from very respectable families but issues in paternal inheritance.
  • Tenth house lord is moon (cancer sign). Ninth house lord is mercury and the eleventh house lord is sun (Surya). So the moon is between mercury and sun. Ascendants are in the healing profession due to moon. Possibly legal profession can be adopted or dealt with too.
  • Eleventh house sign is of Leo sign – Sun (Surya). Tenth house was moon and twelfth house is mercury (Virgo sign). Sun is Bhadhakesh also because in char lagna eleventh house lord is considered as a Bhadhakesh. Lord Venus is the lagna lord, but Bhadhakesh is not considered a friend of Venus. Income may not be commensurate with efforts of the native.
  • Twelfth house lord is mercury (Virgo sign) and previous house lord is sun with next first house being Venus. Natives may try to live beyond means. They enjoy life but also donate plentiful.

Learn Astrology Online with Asttrolok.

Mala Chatterjeee

जानिए आपके बच्चों की कुंडली से, उन्हें किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता।

बच्चों कुंडली देख कर तय करें उनके करियर की दिशा 

बच्चों  के ऊपर अनावश्यक दबाव ना बनाकर उनकी कुंडली देखें और समझे क्या कह रहे हैं उनके ग्रह और फिर चुनें करियर कि दिशा। आज के प्रतियोगी दौर में माता -पिता बच्चों  के भविष्य को लेकर बहुत चिंतित रहते हैं । बच्चें हमेशा देश और समाज का भविष्य है । हमे यह बात हमेशा परेशान करती है कि बच्चे का करियर केसा होगा । अक्सर माता -पिता इसी परेशानी कि वजह से बच्चो पर अनावश्यक दबाव डालते  हैं। अगर वह किसी विषय में कमजोर  हैं तो हम बिना सोचे समझे 2-3  ट्यूशन लगा देते हैं। इससे बच्चों पर दबाव बड़ जाता है । इससे बेहतर  पहले जान ले बच्चे कि कुंडली में उसके ग्रह क्या बोल रहे है। उसकी सोचने समझने कि क्षमता को समझना बहुत जरूरी है। जिसमें उसके ग्रह जिम्मेदार होते हैं। उसके ग्रह ही बताते हैं कि उसकी टेंडेंसी क्या है?

Start your Astrological Journey for FREE.

कुंडली के हिसाब से बच्चो का भविष्य कैसे तय किया जाए 

आपको बता दे कि बुध और गुरु का योग है तो बच्चा फाइनेंस सेक्टर में जा सकता है । अगर यही बुध कमजोर है तो बेकिंग सेक्टर में तो जा सकता है पर हो सकता है कि उसमें एकाउंट्स ना देखे , मार्केटिंग या एडमिनिस्ट्रेशन देखे। आपके ग्रह आपको कहा लेकर जाएंगे यह उन ग्रहों पर निर्भर करता है । 

 
बच्चे के अंदर किस तरह कि प्रवृत्ति है खेलने कि प्रवृत्ति है या झगड़ा करने कि या सुरक्षा करने कि प्रवृत्ति है। यह सारा खेल उसके ग्रहों पर निर्भर होता है। मजबूत मंगल और गुरु के प्रभाव में बच्चा रक्षक प्रवृत्ति का होगा । अगर मंगल राहु के प्रभाव में होगा या मंगल शनी के प्रभाव में होगा तो बच्चा अपराधी प्रवृत्ति का बनेगा । इस तरह से बच्चे के लक्षण दिख रहे है तो उसे रोका जा सकता है कई बच्चे खोजी प्रवृत्ति के होते है तो वह बच्चे शोध (रिसर्च) के विषयो में जा सकता है। भूगर्भ वैज्ञानिक भी बन सकते है । कुछ बच्चे सोशल वर्क के कार्यो में जा सकते है यह सब उनके ग्रहों पर निर्भर करता है अगर बच्चो कि रुचि , पर्सनेलिटी और क्रिएटिविटी को पहले समझ लेंगे तो उसकी जन्म कुंडली के अनुसार उसके मुताबिक उन्हे सही रास्ता दिखाएं कई बार माता -पिता को रहता है कि हमारा बच्चा डाक्टर ही बने या इंजीनियर बने। इससे बेहतर है कि पहले जान ले बच्चे कि कुंडली में इंजीनियर बनने के या डाक्टर बनने के या व्यवसाय करने के या नोकरी करने के योग हैं या खेलकूद में जा सकता है। 
 
जन्म कुंडली से बच्चों के करियर के बारे में मार्गदर्शन मिलता है। आप लोगो ने देखा होगा कि कई बच्चे इंजनियरिंग करके बैंक में नौकरी करते है। यह कुंडली के अनुसार पहले ही जान लेते कि बच्चे का करियर बैंकिंग साईड है तो पहले से उसी कि तैयारी करते और अगर मंगल, शनि, राहु का संबध शिक्षा वाले स्थान मतलब 5th हाऊस से आ रहा हो तो टेक्निकल पढ़ाई करेगा । इसलिए विषय का चुनाव करने से पहले जन्म कुंडली किसी एस्ट्रोलाजर को दिखा लेना चाहिए।