Kamika Ekadashi 2021: Vrat, Puja Vidhi & Remedy

kamika ekadashi 2021

Kamika Ekadashi 2021 First Ekadashi of Sawan 4th August

The Ekadashi that falls during the auspicious month of Shravan Krishna Paksha is known as the Kamika Ekadashi. Dedicated to Lord Shiva, the first observance falling during the chaturmas, the Kamika Ekadashi follows the earlier Shayani Ekadashi. All sins are pardoned by the observance of the Ekadashi during this chaturmas period and the worshipping of Lord Vishnu believing the fact that the natives attain moksha. Therefore, the Kamika Ekadashi also helps in relieving Pitra Dosha, also known as the Pavitra Ekadashi.

Kamika Ekadashi Puja Vidhi

Kamika Ekadashi Vrat Vidhi​

During the Mahabharata period, Dharmaraaj Yudhishtra requested Shri Krishna to tell him the story and importance of Kamika Ekadashi. Lord Krishna said to Yudhishtra that Brahmaji himself had narrated the story to Devrishi Narad and he would also do so.

Brahmaji said, “O Narad, just by listening to the story of Kamika Ekadashi Vrat Katha, fruits of Vajpayee Yagya are attained”. Shanka Chakra and Gadadhari Lord Vishnu are worshipped on this auspicious day.

Read Also: August 2021 Horoscope Predictions for all Zodiac Signs.

Kamika Ekadashi Remedy

Mala Chatterjee

August Horoscope 2021: Monthly Astrological Prediction

August 2021 Horoscope

August 2021 Horoscope Predictions for all Zodiac Signs

ARIES

With Jupiter, the planet of excess, racing through native’s opposite sign, you must necessarily sit still. Finding a companion to share experience, could be the solution. Though there will be great temptation to shop during the month, gently resist the urge to open your purse for every trifling thing you see.

TAURUS

With Mars moving through your sign, you will have plenty to do by the end of the day. You will be enthusiastic to achieve something great and have patience in any unfavorable situation. A handy instrument with this issue in mind could be the purchase of training shoes or boxing gloves to drain out your frustration. You will progress and transform as the month moves on.

GEMINI

You are likely to be preoccupied with achieving a certain goal with perfection without having any preplan for that. At this time the best policy is to uplift yourself, let your instincts take over, and guide you. Your general health and vitality should be in excellent shape. However, present conditions make you inclined towards taking it over easily. With the help of some extra exercise, top up your inner confidence and assurance. Get your free Astrology Course and start learning online.

CANCER

Saturn’s strict influence is now being out of your sphere, life will take you to a lighter and more enjoyable time zone. You can relax and find fun things in your routine. You don’t need to give up on your desires, as the planet of communication, Mercury will be back in your sign that will bring an offer to come around once again.

LEO

It’s time for slow and steady steps as the planet of slow progress, Saturn is in your sign. Even if desires and ideal image seem far away, and impossible to reach, you will still attain these if you step up to the work and accept the challenge. Your proper exercise program and eating habits may go by the board, to make your day full of duties and avoid distractions. After the 17th, you are more dedicated and forward-looking to yourself.

VIRGO

The fun planets of Venus and Mars are sitting happily together and it is a great month for you, especially if you are dressing up to look good. Your willpower will be at the highest and your fitness consciousness will surely give you good results. A slower and sensible approach will give you better long-term results.

LIBRA

On the 17th, Venus will enter your sign and all social graces are yours. Your instincts are to remain at work and keep an eye on all necessities as it’s an excellent time to get noticed and appreciated. However, try not to overdo it. With Mercury going forward once again on the 16th, you may have an inspiration and a clearer idea of how you want to appear.

SCORPIO

Through August 21, there would be important planetary changes in the top half of your chart. You are looking for a more professional approach and image to impress someone at work. It is important to appear sober but do not get drawn too far into the superficial exercises and take care not to go overboard that affects your image. Light a candle daily being between your partner & yourself and each take five minutes to speak what’s on the minds of each other. Know more secrets of Astrology.

SAGITTARIUS

One of the most powerful times of the year, and a turning point for your tactics. Huge potent action brews as Jupiter, the current ruler, is in an auspicious aspect to Saturn especially mid-month. It is an auspicious moment when God is on your side so, act courageously and consciously.

CAPRICORN

All work and no play Capricorn makes you a good provider but also exhausts you at home. With a ruler in a good relationship to Jupiter, especially mid-month, you can move to diffuse tensions. If your home and family life has suffered due to work pressure, restore the connection with your children, partner, family, and friends. It’s a favorable time for vacations and gatherings.

AQUARIUS

August’s last week is a good time to reevaluate from a higher perspective. Reconnect to your dreams, visions, and, practice your ‘Spiritual Sadhna’. Reaffirm and restore the intentions you had six months ago. Reinforce this intention from August 8, through August 22, watch the magic happen.

PISCES

For Pisces, this is the most revealing cycle of the year. The planetary combination acts like a spotlight, making it easier for you to discern between the materialistic dense, the technologically abstract world, and the subtle world of intuition, dreams, and symbols. If you have felt spiritually isolated this is the time to try and get connected. You have a great ability to draw meaning out of your dreams and see your life from a more spiritual aspect.

Mala Chatterjee

ज्योतिष के अनुसार सावन के महीने का महत्व और प्रभाव

sawan 2021

श्रावण मास 2021

हिंदु धर्म में सावन के महीने का बहुत अधिक महत्व होता है। सावन का महीना हिंदु पंचांग का पांचवा महीना होता है। यह महीना भगवान शिव को समर्पित होता है। इस महीने में भगवान शिव की विधी विधान से पूजा अर्चना करनी चाहिए । ऐसी मान्यता है कि सावन के महीने में जो व्यक्ति हर रोज शिवलिंग पर जल चढ़ाता है उसकी मनोकामनाएं जल्दी पूरी होती है । सावन का महीना इसलिए खास है क्योंकि इस समय खास मंत्रो से शिवलिंग पर जलाभिषेक किया जाता है। ज्योतिष के  नजरिए से भी सावन के पावन महीने में शिवलिंग पर जल चढ़ाने से कई तरह के लाभ मिलते हैं । ऐसी मान्यता है जो नियमित रूप से शिवलिंग पर जल चढ़ाता है उसकी कुंडली में अशुभ ग्रहों का प्रभाव कभी नहीं रहता है । सावन के महीने में इसका महत्व और बड़ जाता है । शिवलिंग का अभिषेक करने से नकारात्मक ऊर्जा हमेशा के लिए दूर चली जाती है । सावन के महीने का प्रकृति से भी गहरा संबंध है क्योंकी इस माह में वर्षा ऋतु होने से संपूर्ण धरती बारिश से हरी भरी हो जाती है । गीष्म ऋतु के बाद इस माह में बारिश होने से मानव समुदाय को बड़ी राहत मिलती है । भक्त सावन के महीने में सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ महादेव का व्रत करते हैं तो उसे शिव का आशीर्वाद जरूर प्राप्त होता है । विवाहित महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने और अविवाहित महिलाए अच्छे वर के लिए भी सावन में शिवजी का व्रत रखती है तो अच्छे वर की प्राप्ती होती है । सावन के महीने में शुभ त्योहार हरायली तीज , नागपंचमी और रक्षाबंधन का सफल आयोजन किया जाता है ।

धार्मिक मान्यता है कि सोमवार व्रत करने से दुख, कष्ट और परेशानियों से छुटकारा मिलता है तथा  सुखी, निरोगी काया और समृद्ध जीवन का आनंद पाता है । सावन माह में सोमवार को जो भी पूरे विधि विधान से शिव की पूजा करता है वह शिवजी का विशेष आशीर्वाद पाता है |  जिन लोगों को विवाह में परेशानी आ रही हो उन्हें सावन के महीने मे भगवान शंकर की विशेष रूप से पूजा करनी चाहिए । भगवान शिव की कृपा से विवाह संबधित समस्याएं दूर हो जाती है ।

सावन माह में शिव की पूजा करने से सभी तरह के पापो से मुक्ति मिल जाती है और मोक्ष की प्राप्ति होती है ।

इस माह सावन सोमवार का व्रत सर्वाधिक महत्वपूर्ण  है । दरअसल श्रवण मास भगवान भोले नाथ को सबसे प्रिय है । शिव पुराण के अनुसार जो व्यक्ति इस माह में सोमवार का व्रत करता है भगवान शिव उसकी समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण कर देते है । सावन के महीने मे लाखो श्रद्धालु ज्योतिर्लिंग के दर्शन के लिए उज्जैन, ओमकारेश्वर एवं भारत के कई धार्मिक स्थलों पर जाते हैं । सावन माह में शिव का ध्यान करके ॐ नमः शिवाय और महाम्रतुंजय का जाप करने से  बिमारी, दुर्घटना , और अकाल मृत्यु से मुक्ति मिलती है ।

सावन के महीने में शिव के अभिषेक के फल

ममता अरोरा

Guru Purnima 2021: आषाढ़ मास की गुरु पूर्णिमा, महत्व व विशेष संयोग

Guru Purnima 2021

गुरु पूर्णिमा पर अपने गुरु का आर्शीवाद केसे पाएं और अपने गुरु की कृपा केसे प्राप्त करे?

किसे कहते हैं गुरु? किसे बनायें गुरु? गुरु पूर्णिमा का महत्व क्या होता है? अगर गुरु नहीं है तो क्या करें ? क्या करें जिससे गुरु पूर्णिमा पर गुरु की कृपा मिल जाये. गुरु की पूर्णिमा ही क्यों होती है, एकादशी क्यों नहीं होती?

जो सम्पूर्ण हो, हर दृष्टिकोण से पूर्ण हो वही गुरु हो सकता है।

 इन सब चीज़ों की पूर्ति पूर्णिमा के दिन होती है इसलिए हम गुरु पूर्णिमा मनाते हैं।

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के पर्व के रूप में  मनाया जाता है। आषाढ़ के महीने में एक गुप्त नवरात्री भी आती है, इसी महीने में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा भी होती है। आषाढ़ की पूर्णिमा के दिन  रूप से चंद्रमा संपूर्ण होता है और चंद्र होता है मन, और बिना मन के गुरु का पूजन हो नहीं सकता, इसलिए गुरु की पूर्णिमा होती है।

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन एक और खास बात है.   जो हमारे 18  पुराणों के रचयिता हैं, महर्षी वेद व्यास जी  उनका जन्म भी गुरु पूर्णिमा के दिन हुआ था। अतः इसको व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं। इस दिन से ऋतु परिवर्तन भी होता है। आषाढ़ के समाप्त होते ही  जब सावन शुरू होता है तो ऋतु परिवर्तन बहुत तेजी से होता है। पुराने ज्योतिष इस दिन वायु का परिक्षण करके गणना  करते थे और जान जाते थे की आने वाले समय में मौसम कैसा रहेगा। गुरु पूर्णिमा वाले दिन शिष्य अपने गुरु की विशेष पूजा करते हैं।

गुरु को आपसे कुछ नहीं चाहिए। यह मत समझो की गुरु की पूजा नहीं करेगें तो गुरु नाराज़ हो जायेगें। ऐसा संभव नहीं है, गुरु कभी नाराज़ नहीं होते और अगर नाराज़ हो भी जाएं तो वह शिष्य को सुधारने के लिए दंड दे सकता है लेकिन हमेशा शिष्य का भला ही चाहता है। गुरु पूर्ण रूप से सकारात्मक ऊर्जा में अच्छाई बुराई से परे होता है। सिर्फ देता है लेकिन शिष्य का दायित्व है कि अपने गुरु का  सम्मान करे, अपने गुरु का आभार व्यक्त करे। इसलिए गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु की पूजा करते हैं और शिष्य यथा शक्ति दक्षिणा, पुष्प और वस्त्र आदि अपने गुरु को भेंट करता है।

Read Also: ज्योतिष के अनुसार सावन के महीने का महत्व और प्रभाव

सबसे ज्यादा अहम चीज़ जो गुरु पूर्णिमा पर अपने गुरु को दी जाती है वह है शिष्य के अवगुण। शिष्य अपनी सारी बुराइयों को, अपने सारे अवगुण को अपने गुरु को अर्पित कर देता और अपने जिवन का सारा भार अपना अच्छा , अपना बुरा सब कुछ गुरु को दे देता है ताकि गुरु के प्रति समर्पित हो जाए एवम गुरु गोविंद से मिलने का मार्गदर्शन ले । हर गुरु अपने  शिष्य को कुछ नियमों  में रहकर जीना सिखाता है और अनुशासन  में रहना सिखाता है, अगर शिष्य वैसे ही गुरु के बताए नियमों के अनुसार रहने लगे तो उसके जीवन का उद्धार हो जाता है और उसे गुरु की कृपा मिलती है।

गुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागु पाए बलिहारी गुरु आपने गोविंद दियो बताए।

इसलिए गुरु बनाने को बोला जाता है। गुरु की सेवा करने को बोलते है क्योंकि गुरु के आशीर्वाद से अपना जीवन बहुत अच्छा हो जाता है।

ममता अरोरा 

Devshayani Ekadashi 2021: Importance, Holy Ritual & Mythological History

Devshayani Ekadashi 2021: Importance, Holy Ritual & Mythological History

DEVSHAYANI EKADASHI – JULY 20, 2021

In the bright fortnight, the month of ashada, the eleventh day is known as Deshayani Ekadashi. Falling between June and July this Ekadashi holds great significance to the followers of the Lord Vishnu, the Vaishnav community. Also known as Maha Ekadashi, Toli Ekadashi, Ashadi Ekadashi, Harishayani Ekadashi, the period is marked by the sun’s entry into the zodiac sign of Gemini.  This also marks the beginning of chaturmasa, a holy period of four months between ashada and Kartik.

IMPORTANCE OF DEVSHAYANI EKADASHI :

Lord Vishnu is believed to attain Yoga Nidra, a state of complete mental relaxation, on the day of Devshayani Ekadashi, a time when the lord goes to sleep on the cosmic ocean of milk, the ksheersagar.  During this period no auspicious activity is carried out, especially marriages. The day is celebrated by worshipping the idols of Lord Vishnu and Goddess Laxmi early in the morning. Devotees offer flowers, light lamps, and make a milk-based sweet called Kheer.  This is offered to the deities with the chanting of hymns and shlokas throughout the day.

MYTHOLOGICAL HISTORY OF DEVSHAYANI EKADASHI

There was a king in the sunavans, the ruler of mandhata. Honest, peace-loving, and valiant, the king looked after his people’s every need and made sure all in his kingdom were always with joy and prosperity. There was no scarcity or poverty and everything was excellent. However, a deadly famine hit his kingdom leaving everyone in despair and hunger. The king decided to find a solution as no such disaster had ever overtaken his kingdom. Going deep into the forest to find a solution, he came across an ashram,  the ashram of one of the sons of Lord Brahma, namely, Angira. The king prayed to the sage to put his kingdom out of misery. The accomplished recluse suggested to the king to observe Devshayani Ekadashi. The king followed the sage’s instructions including fasting for the occasion. In no time, famine and drought left the kingdom and everything returned to peace and prosperity in the region.

HOLY RITUAL OF DESVSHAYANI EKADASHI

Known for its fasting rituals, Devshayani Ekadashi includes waking up early in the morning an hour and a half before sunrise, followed by a bath and meditation.

Written by Mala Chatterjee

जुलाई में चार ग्रहों का होगा राशि परिवर्तन इन राशियों पर पड़ेगा शुभ प्रभाव

सूर्य, बुध, मंगल व बुध का राशि परिवर्तन

जुलाई का महीना चार प्रमुख ग्रह के राशि परिवर्तन के नाम दर्ज होगा। बुध जुलाई माह में दो बार राशि परिवर्तन कर रहे है 7 जुलाई के बाद 25 जुलाई 2021 को बुध का राशि परिवर्तन होगा। इसके अलावा सूर्य, मंगल, शुक्र का राशि परिवर्तन होगा ग्रहों के राशि परिवर्तन से कई लोगो के बिजनस और नोकरी में बदलाव मिल सकता है। जुलाई अगस्त महीना ग्रह नक्षत्र के लिहाज से खास है इस माह चातुर्मास भी पड़ रहा है ऐसी मान्यता है कि इस दौरान सृष्टि का संचालन भगवान शिव करेगे अन्य देवता गन निद्रा में चले जायेंगे।

सूर्य का राशि परिवर्तन

सूर्य मिथुन राशि से निकलकर कर्क राशि में प्रवेश करेंगे। ज्योतिष के अनुसार सूर्य को नवग्रह में प्रथम ग्रह और पिता के भाव और कर्म का स्वामी माना जाता है जीवन में जुड़े तमाम दुखो और रोग आदि को दूर करने के साथ साथ जिन्हे संतान नही होती उन्हें सूर्य साधना से लाभ मिलता है। पिता पुत्र के संबधो में विशेष लाभ के लिए सूर्य साधना पुत्र को करनी चाहिए। जातक की कुंडली में सूर्य प्रबल होने पर मान सम्मान नेतृत्व क्षमता में वृद्धि और सरकारी नौकरी के अवसर प्राप्त होते हैं।

किन किन राशियों को होगा लाभ 

सूर्य के कर्क राशि में जाने पर में मेष, तुला, वृश्चिक, मीन  राशि वालो को मिलेगा फायदा।

मंगल का राशि परिवर्तन

ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह को धरती पुत्र कहा गया है मंगल का स्वभाव उग्र होता है मंगल के शुभ प्रभाव से जातक में उत्साह , उमंग , जोश और वीरता के भाव आते हैं। यह ग्रह 20जुलाई को कर्क से निकलकर सिंह राशि में प्रवेश करेंगे । मेष और वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल कर्क राशि में नीच के और मकर राशि में उच्च के हो जाते है।

किन किन राशियों को होगा लाभ

मंगल के सिंह में गोचर करने से चार राशि को विशेष लाभ मिलेगा _मिथुन, तुला, वृश्चिक और मीन राशि।

बुध का राशि परिवर्तन

जुलाई महीने में बुध का राशि परिवर्तन दो बार होगा। बुध ग्रह का प्रभाव शिक्षा, निवेश, और व्यापार पर रहता है 7 जुलाई को बुध वृषभ राशि से निकलकर मिथुन में आए थे। अब 25 जुलाई को कर्क राशि में प्रवेश करेंगे और सूर्य के साथ मिलकर बुधादित्य योग बनेगा।

किन किन राशियों को होगा लाभ 

बुध के राशि परिवर्तन से मेष, वृश्चिक, और मकर राशि को फायदा मिलेगा।

शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तन

17 जुलाई को शुक्र कर्क राशि को छोड़कर सिंह राशि में प्रवेश कर जायेगे। वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह को सुख, एशोआराम और भौतिक सुख का कारक ग्रह माना गया है।

किन किन राशियों को होगा लाभ

सिंह, मकर और कुंभ राशि के जातकों पर विशेष प्रभाव पड़ेगा।

Role and Importance of Saturn Planet in Vedic Astrology

Role and Importance of Saturn Planets in Vedic Astrology

Saturn Planet: Mythological Facts, Positive & Negative Traits

Saturn: What goes round comes round.

We all know, Saturn as the planet & part of the solar system, but in Astrology, Saturn plays a very crucial role. One of the slowest yet disciplined planets it has a cold & restricted nature.It helps you study lessons of struggles and hard work to become stronger and more intelligent in the journey of life. It is entirely related to the karmic planet. In the situation of Saturn transits in a person’s horoscope, the life of the person is affected. There can be situations like sadesati, dhaiya, maha dashas & Antar dashas when a person can reduce to rags.

Mythologically, Saturn is a son of Lord Surya and his wife Chhaya (shadow) and has strained relations with his father, thus considered as both cold and hot planet. The planet of justice behaves like a judge and gives justice depending upon the deeds of a person. Explore the traits of the planet of justice: Saturn.

Positive Traits of Saturn:

Negative Traits of Saturn:

Each planet reacts differently when combined with other planets.

शनि दंड के नही बल्कि न्याय का देवता हैं।

shani grah

शनि ग्रह का ज्योतिष में महत्व

शनि नवग्रहों में से दूसरा सबसे बड़ा ग्रह है, परंतु बहुत धीमी चाल से चलने वाला ग्रह है। इसकी धीमी गति के कारण ही इस गृह का नाम शनैश्चर पड़ा। सूर्य पुत्र शनि को न्याय का देवता भी कहा गया है। शनि को मृतुलोक का न्यायधीश भी कहते है। जो जातक अच्छे कर्म करता है शनि उन्हे अच्छे फल देता है तथा जो जातक बुरे कर्म करता है उसका बुरा फल देता है।

शनि चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों का प्रितिनिधित्व करता है एवं शनि की साढ़ेसाती व ढईया में कर्मो फल देता है। यह तुला राशि मे उच्च का व मेष राशि मे नीच का होता है। शनि ग्रह के फल अन्य ग्रहों की अपेक्षा ज्यादा समय तक प्रभावी रहते है। शनि मोक्ष का कारक है, तपस्वी एवम् त्यागी देव है। हमेशा गुरु एवम् ब्रह्मा की सेवा करता है और शनि के फलों में कोमलता एवम् कठोरता दोनो होते है। शनि अपने सभी कार्य राहु एवम् केतु से करवाता है। राहु कठोरता है व कोमलता केतु है।

These Ayurveda benefits can heal you inside out.

These Ayurveda benefits can heal you inside out.

THE BENEFITS OF THE SCIENCE OF AYURVEDA

Ayurveda is a vast and scientific healing system practiced in India for thousands of years that heals the body constitution. This 5000-year-old science of natural healing was curbed by the foreign invaders who came to India, for their benefit.

Ayur means life. Veda means the science of knowledge.

With the extensive benefits, Ayurveda is an ancient healing tradition that is majorly applied to avoid major illnesses. The medicinal benefits of Ayurveda comprise:

Let’s lookup for more benefits of Ayurveda.

Stress Buster

Vedic knowledge is designed to expose the universe and our consciousness. There are many Ayurvedic methods to provide relief from stress – Dinacharya i.e. the practice of waking up early to give the native peace of mind.  Meditation i.e. reduction of stress hormones since the native shall be meditating and not exposed to random thoughts. Geen Tea i.e. Thiamine content that keeps you away from any stress and reduces anxiety levels.

Weight Loss

Detoxifies body. Removes excessive fat from tissues. Purification of the skin i.e. proper dermatology. Noxious body odor gets removed. Major improvement in blood circulation. Heart rejuvenation due to reduced cholesterol levels.

Balancing of Hormones

Ayurveda has major assistance in balancing hormones which result in healthy menstrual cycles and pregnancy-related issues. The Ayurvedic treatment for regulating menstrual cycles takes into account detoxification of the body,   adequate rest, regular exercising. Native is advised to consult an ayurvedic doctor in case of irregular menstrual cycles.

Reduction in Inflamations

Poor diet and lack of adequate and proper sleep tend to result in inflammations. The Ayurvedic treatment is used for controlling these inflammations. Some of the herbs used in Ayurveda for this are turmeric, ashwagandha, Boswellia, ginger that are combined for the treatment. Boswellia is normally recommended for people suffering from acute back pain, arthritis, bowel diseases. For rejuvenation, ashwagandha is recommended. Turmeric is a powerful antioxidant.  

Harmful toxins are exterminated and removed from the body.

Native’s mind, body, and soul are cleansed by Ayurveda. Ayurvedic treatment  – PANCHKARMA – is used to remove toxins from the body. These toxins affect normal body functions. While a full body massage will perk up your body, take a natural diet as per body conditions.

Disease

Disease and disorders can be negated by a healthy diet, sunbathing, breathing exercise. Prevention is the foremost step. And this is followed in Ayurveda.  Ayurved detects possible medical issues and provides medicinal care in prevention time.

Ayurveda Benefits Overall Health

This ancient medical science focuses on the native rather than the disease. Medicinal herbs are used in Ayurved – turmeric, cloves, cinnamon, cardamom, saffron, and Tulsi. These anti-inflammatory and anti-oxidant herbs are preventive measures.

Healthy Skin

For healthy, lively, radiant skin, Ayurved is the best remedy. Native has to consume lots of greens – lettuce, salads, spinach, cucumber, and so on.  These are easy to digest and are glowing skin aids. Omega 3 containing nuts and seeds is also a help.  All these result in radiant skin glow and negates inflammation.

Insomnia

Intake of bedtime caffeine, mobile phone light, spicy dinner is likely to disrupt the sleep cycle and aggravate the nervous system resulting in insomnia.  Ayurved aids in proper sleep. Simply rub jasmine or coconut oil on your scalp and feet. And consume a warm glass of almond milk.

Bloating

Eating too many results in bloating of the stomach. This also causes disturbed bowel movements.  Excessive production of gas may result in stomach pain, stuffiness and discomfort. Ayurveda assists indigestion. Ayurvedic herbs, spices, and roots such as cardamom, ginger, cumin seeds, etc. would cure bloating and indigestion. Chew ginger with cumin seeds.

PREVENTION from disease and not FIGHT is the main aim of Ayurved.  Treatment is finding the root of the problem and not concentrating on healing as prevention already takes care of the ailment.

Mala Chatterjee

मंगल होना दोष नहीं योग है | Mangal or Manglik Dosh

Mangal or Manglik Dosh | मंगली होना दोष नहीं योग है।

मंगल दोष एक दोष नहीं, योग है।

पत्रिका में मांगलिक होना एक दोष माना जाता है। जब मंगल लग्न, चतुर्थ, सप्तम,अष्टम व द्वादश भाव मे होता है तो जातक मांगलिक कहलाता है, जिसे लोग एक दोष मानते है, उससे घबराते है। परन्तु क्या अप्प जानते है की मांगलिक पत्रिका वाले जातक प्रभावशाली, विशेष गुण वाले, किसी भी कार्य को लग्न व निष्ठा से करने वाले होते है। वह किसी भी परिस्थिति में घबराते नही है, ऐसे जातकों में महत्वकांक्षा अधिक होती है। जिसके कारण उनका स्वभाव क्रोधी प्रवर्ति का होता है। ऐसे जातकों में दयालुता का भाव अधिक होता है। वह उच्च पद, व्यावसायिक योग्यता, राजनीति, चिकित्सा, बिजली अभियंता जैसे पदों पर आसीन होते है।

अब प्रश्न यह उठता है कि मांगलिक जातक का विवाह मांगलिक कन्या से ही क्यों किया जाता है?

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मांगलिक जातक व जातिका अपने जीवन साथी के प्रति संवेदनशील होती है और उनका आपस मे मानसिक स्तर एक जैसा होता है। इसी कारण मांगलिक जातक व जातिका का विवाह मांगिलिक से ही किया जाता है। अर्थात मांगलिक होना कोई दोष नही है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मांगलिक होने के परिहार भी बताया गए है। यदि जातक या जातिका की पत्रिका मांगलिक हो और दूसरे की न हो लेकिन उसकी पत्रिका में अरिष्ट योगकारक शनि या कोई पापी ग्रह विद्यमान हो तो मंगल का परिहार हो जाता है।

लाल किताब के अनुसार यदि मांगलिक पत्रिका हो तो उसे कुछ सरल उपाय कर लेना चाहिए।

ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा (लाल किताब)